इंडियाटेक्नोलॉजी

X का डेटा लीक, 20 करोड़ से ज्यादा यूजर्स खतरे में, सेफ रहने के लिए तुरंत करें ये काम

Elon Musk के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X (पहले ट्विटर) के करोड़ों यूजर्स का डेटा लीक हो गया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, एक्स को कथित तौर पर डेटा ब्रीच का सामना करना पड़ा है, जिससे करीब 200 मिलियन (20 करोड़) से ज्यादा यूजर्स प्रभावित हो सकते हैं। हालांकि, एक्स ने इस मामले की पुष्टि नहीं की है। दरअसल, साइबर प्रेस के शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि लीक हुए रिकॉर्ड का साइज 9.4GB (लगभग 1GB की 10 फाइल्स) है, जिसमें यूजर्स के ईमेल एड्रेस, नाम और अन्य अकाउंट डिटेल शामिल हैं। कहा जा रहा है कि यह डेटा ब्रीच करोड़ों एक्स यूजर्स को प्रभावित कर सकता है।
प्रभावित यूजर्स पर मंडरा रहा खतरा

शोधकर्ताओं ने बताया कि प्रभावित यूजर्स अब फिशिंग, पहचान की चोरी और कई अन्य तरह के ऑनलाइन हमलों का सामना कर सकते हैं। ऐसे में यूजर्स को सतर्क रहना चाहिए। इस डेटा का उपयोग हैकर्स द्वारा उन अकाउंट्स या डिवाइसों से समझौता करने के लिए किया जा सकता है जो प्रभावित ईमेल आईडी से जुड़े हो सकते हैं। डेटा एक हैकिंग फोरम पर टाइटल “9.4GB – ट्विटर लीक डेटाबेस लास्ट वन – ईमेल एड्रेस, नाम और ट्विटर अकाउंट डिटेल्स वाले 20 करोड़ से अधिक रिकॉर्ड का खुलासा” के साथ दिखाई दिया है।

लीक हुए डेटाबेस को 7 जुलाई, 2024 को “मिचुपा” नाम का एक नए अकाउंट द्वारा जारी किया गया था। कहा जा रहा है कि लीक हुए डेटा में एक डाउनलोडेबल लिंक है, जो प्रभावित यूजर्स की बड़ी मुसीबत खड़ी कर सकती है। इन लीक हुए एक्स अकाउंट से जुड़े ईमेल एड्रेस का इस्तेमाल स्पैम यूजर्स, फिशिंग अटैक और अन्य मलिशियस एक्टिविटी के लिए कर सकते हैं। प्रोफाइल इंफॉर्मेंशन जैसे कि यूजर नेम और अन्य से पहचान की चोरी होने का भी खतरा है।
सेफ रहने के लिए तुरंत करें ये काम

लीक के पैमाने को देखते हुए, यूजर्स खुद को सेफ रखने के लिए कुछ सेफ्टी टिप्स को आजमा सकते हैं जैसे कि पासवर्ड बदलना, टू-फैक्टर ऑथोंटिकेशन इनेबल करना, संदिग्ध ईमेल और मैसेजेस को इग्नोर करना। इसके अलावा, यूजर्स को अकाउंट की एक्टिविटी और जिस डिवाइस पर अकाउंट लॉगइन है उस पर भी नजर रखनी चाहिए। ऑर्गनाइजेशन मजबूत सिक्योरिटी और डेटा सेफ्टी तरीकों को लागू कर सकते हैं और समय-समय पर सिक्योरिटी ऑडिट के माध्यम से संभावित कमजोरियों का पता लगा सकते हैं और कर्मचारियों के बीच ऑनलाइन हमलों के बारे में जागरूकता बढ़ा सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button