रेसिपी

आम के सीजन में क्या आपने ट्राई की मुंह में पानी लाने वाली ये रेसिपी?

अपनी रसोई में झांककर देखिए। वहां आपको तरह-तरह के बीज मिल जाएंगे। सौंफ, अजवाइन, अलसी, तिल, मेथी दाना आदि तो बस कुछ उदाहरण भर हैं। इनका प्रयोग हम अपने दैनिक खानपान में करते हैं। पर, क्या आप जानती हैं कि इनके अलावा भी कई और बीज हैं, जिनका उपयोग आप अपने कुकिंग में कर सकती हैं। उनमें से ही एक है, चिया सीड्स। यह सच है कि आज चिया सीड का नाम काफी सुनने में आ रहा है। पर, आज से दो दशक पहले तक मुझे भी इसके बारे में कोई खास जानकारी नहीं थी।

वजन कम करने के सिलसिले में एक डाइटीशियन ने मुझे रात में एक चम्मच चिया सीड्स को एक गिलास पानी में भिगोकर, सुबह उसमें एक चम्मच विनिगर मिलाकर पीने की सलाह दी थी। मुझे ताज्जुब हुआ कि दो महीने में मेरा वजन बिल्कुल ठीक हो गया। यदि आप भी अपने खानपान और सेहत को लेकर हमेशा सचेत रहती हैं तो सुपर फूड कहे जाने वाले इस चिया सीड्स का उपयोग जरूर करें।

यह आज के समय में सबसे लोकप्रिय सामग्री में से एक है। चिया सीड्स आकार में बहुत ही छोटे होते हैं और काले-सफेद व ग्रे रंग में पाए जाते हैं। येअपने वजन से 10 गुना ज्यादा पानी सोख लेते हैं। कुछ लोगों का मानना है कि इनका स्वाद अखरोट से मिलता-जुलता है। विदेशों में तो इनका सेवन लंबे समय से होता आया है, पर अब हमारे यहां भी इसका उपयोग काफी होने लगा है। ये बीज एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती हैं और इनमें प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस आदि पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।

सब्जा के बीज से अलग है यह
कुछ लोग चिया सीड्स को सब्जा के बीज  मानने की गलती कर बैठते हैं। सब्जा के बीज काले रंग के और दिखने में गोल होते हैं। इन्हें तुलसी के बीज के नाम से भी जाना जाता है। चिया सीड्स काले, ग्रे और सफेद होते हैं। सब्जा के बीज चिया सीड्स के मुकाबले आकार में थोड़े बड़े होते हैं। सब्जा के बीजों को कच्चा नहीं खाया जा सकता, जबकि चिया सीड्स कच्चा खाने में क्रंची लगते हैं । दोनों के गुण भी अलग होते हैं।

ऐसे करें स्टोर
• सस्ते के चक्कर में चिया सीड्स की गुणवत्ता से समझौता नहीं करें।
• सीड्स को लंबे समय तक स्टोर करने के लिए इसे एयर टाइट डिब्बे में अंधेरी जगह पर रखें।
• ये फ्रिज में भी रखे जा सकते हैं। फ्रिज में स्टोर करने से ये छह माह से लेकर एक साल तक इस्तेमाल योग्य रहते हैं।
• इन्हें भिगोने से पहले जांच लें कि उनमें ताजी खुशबू आ रही है या नहीं। भिगोने के बाद इनमें हल्का पौष्टिक स्वाद आता है और इसकी बनावट जेल की तरह हो जाती है।

खाने में ऐसे करें इस्तेमाल
• मैं एक गिलास पानी में एक बड़ा चम्मच चिया सीड्स को रात भर पानी में भिगो देती हूं। सुबह इसमें एक चम्मच सत्तू, काला नमक ,सफेद नमक, नीबू का रस और यदि इच्छा हो तो थोड़ी चीनी डाल देती हूं। बढ़िया चिया सीड्स वाला सत्तू ड्रिंक तैयार है। गर्मी के दिनों में इसके सेवन से पेट भी भरा-भरा सा रहता है ।
• चिया एनर्जी ड्रिंक बनाने के लिए भिगोई  हुई चिया सीड्स में शहद व नीबू का रस मिलाएं और खाली पेट उसका पानी पिएं व सीड्स को चबाकर खाएं। पाचन दुरुस्त रहेगा।
• भीगे हुए चिया सीड्स को स्मूदी में, र्पुंडग में, जूस में डालें और पिएं।
• जैम, दही ,आइसक्रीम आदि पर इसे ऐसे ही छिड़के और स्वाद लें।
• कभी-कभी मैं चिया सीड्स का पाउडर बनाकर भी दही पर डालती हूं, तो कभी ऑलिव ऑयल शहद और नीबू के रस के साथ अच्छी तरह मिलाकर सलाद ड्र्रेंसग में उपयोग करती हूं।
• खजूर के साथ ड्राई फ्रूट और चिया सीड्स मिलाकर आप ग्रेनोला बार भी तैयार कर सकती हैं।

सेहत का रखवाला
• चिया सीड्स के सेवन से हड्डियां स्वस्थ रहती हैं क्योंकि यह कैल्शियम का एक समृद्ध स्रोत है।
• रक्त शर्करा के स्तर को भी चिया सीड्स नियंत्रित करती है क्योंकि इसमें मौजूद फाइबर शर्करा को नियंत्रित कर इसे रक्त प्रवाह में अवशोषित नहीं होने देता।
• फाइबर की अधिक मात्रा के कारण इसके सेवन से पेट देर तक भरा रहता है और वजन भी नियंत्रित रहता है।
• यह शाकाहारी लोगों के लिए अंडे का अच्छा विकल्प  है।
• चिया सीड्स में फाइबर प्रचुर मात्रा में होता है, इसलिए इसके सेवन से पेट की सेहत दुरुस्त रहती है।
• इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है, जो हृदय रोगियों के लिए फायदेमंद साबित होता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button